Today Trust Voting In Goa Assembly – गोवा में आज बहुमत साबित करेंगे पर्रिकर, कांग्रेस ने लगाए संगीन आरोप



Today Trust Voting In Goa Assembly

रक्षामंत्री के पद से इस्तीफा देने के बाद गोवा के मुख्यमंत्री बने बीजेपी नेता मनोहर पर्रिकर के लिए गुरुवार का दिन काफी अहम है. सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार उन्हें गुरुवार को विधानसभा में शक्ति परीक्षण के जरिए बहुमत साबित करना होगा. बता दें कि पर्रिकर ने मंगलवार को चौथी बार गोवा के सीएम पद की शपथ ली थी.
शक्ति परिक्षण को देखते हुए कांग्रेस खेमे में भी हलचल है. वोटिंग से पहले कांग्रेस के नाराज विधायक विश्वजीत राणे ने 5 युवा विधायकों के साथ बैठक की. ये बैठक एक होटल में हुई. विश्वजीत कुछ कांग्रेस नेताओं से नाराज हैं और वह कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से भी मिलकर इनकी शिकायत कर सकते हैं.

रक्षामंत्री के पद से इस्तीफा देने के बाद गोवा के मुख्यमंत्री बने बीजेपी नेता मनोहर पर्रिकर के लिए गुरुवार का दिन काफी अहम है. सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार उन्हें गुरुवार को विधानसभा में शक्ति परीक्षण के जरिए बहुमत साबित करना होगा.

कांग्रेस का आरोप- 1,000 करोड़ में खरीदे गए विधायक
उधर, कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि गैर कांग्रेसी विधायकों को लुभाने और खरीद-फरोख्त पर बीजेपी ने इस सप्ताह गोवा में 1,000 करोड़ रुपये खर्च किए. अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सचिव गिरीश चोडनकर ने पणजी से 2 बार विधायक निर्वाचित हुए सिद्धार्थ कुनकोलिनकर को गोवा विधानसभा का अस्थाई अध्यक्ष नियुक्त किए जाने का भी विरोध किया.
उन्होंने कहा कि कुनकोलिनकर की निष्पक्षता संदेहास्पद है, क्योंकि वह 2012-2014 के दौरान तत्कालीन मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के राजनीतिक सहायक और संयुक्त सचिव के रूप में काम कर चुके हैं. चोडनकर ने कहा है कि बीजेपी ने विधायकों को खरीदने के लिए 1,000 करोड़ रुपये खर्च किए.
वहीं, इस बयान के बाद बीजेपी महासचिव ने कहा कि मुझे तो 1,000 करोड़ रुपये लिखने तक नहीं आता. मेरे पास एक छोटी-सी कार है.
सरकार बनाने के लिए बीजेपी कर रही पैसों का दुरुपयोग: राहुल गांधी
गौरतलब है कि गोवा विधानसभा चुनाव में कांग्रेस सबसे बड़ा दल बनके उभरा है. उसके खाते में 17 सीटें आई हैं. बीजेपी को 13 सीटें जबकि अन्य को 10 सीटें मिली हैं. सबसे बड़ा दल होने के नाते कांग्रेस को सरकार बनाने का मौका मिलना चाहिए था, लेकिन बीजेपी को जब अन्य का समर्थन मिल गया तो उसने राज्यपाल के पास सरकार बनाने का दावा पेश किया था. इससे नाराज कांग्रेस ने इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था, लेकिन कोर्ट ने उसकी याचिका खारिज कर दी और पर्रिकर को गुरुवार को बहुमत साबित करने को कहा था.