Lucknow News Supreme Court Not Given Relief To Gayatri Prajapati – गायत्री प्रजापति को नहीं मिली सुप्रीम कोर्ट से राहत, सुनवाई से इनकार अब जाना ही होगा जेल



Lucknow News Supreme Court Not Given Relief To Gayatri Prajapati

उत्तर प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री और अमेठी सीट से सपा प्रत्याशी गायत्री प्रजापति को सुप्रीम कोर्ट से राहत नहीं मिली है.  गिरफ्तारी पर रोक की मांग वाली अर्जी पर सोमवार को  सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा कि वो अपना पक्ष ट्रायल कोर्ट में जाकर रखे. वहीं इस मामले में 22 मार्च को अगली सुनवाई होगी.
वैसे गायत्री खुद तो फरार हैं, लेकिन उनके वकील सामने आए हैं और गायत्री के खिलाफ लगे आरोपों को साजिश बता रहे हैं.

उत्तर प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री और अमेठी सीट से सपा प्रत्याशी गायत्री प्रजापति की गिरफ्तारी पर रोक की मांग वाली अर्जी पर सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी.

वहीं पीड़ित के वकील गायत्री के खिलाफ पुलिस की जांच पर ही सवाल उठा रहे हैं. गायत्री प्रजापति कहां हैं ये अभी किसी को नहीं पता. संभव है कि गिरफ्तारी पर रोक वाली याचिका पर फैसले का इंतजार कर रहे हों. इस बीच राज्यपाल ने अखिलेश सरकार ने पूछा है कि उन्हें मंत्रिमंडल से क्यों नहीं हटाया जा रहा है.
इस दौरान खुफिया एजेंसियों ने गायत्री प्रजापति को लेकर एयरपोर्ट्स पर भी अलर्ट जारी किया है और सीमाओं पर नजर रखी जा रही है कि कहीं वो देश छोड़़कर फरार  न हो जाएं. लेकिन सवाल ये खड़ा होता है क्या वाकई पुलिस इस कद्दावर मंत्री को तलाश रही है ये सिर्फ दिखावा.
क्या है महिला का आरोप
महिला का आरोप है कि वह प्रजापति से लगभग 3 साल पहले मिली थी. उस समय मंत्री ने उसकी चाय में नशीला पदार्थ मिलाकर बेहोशी की हालत में उसके साथ रेप किया और उसकी तस्वीरें भी ले ली. महिला ने आरोप लगाते हुए कहा था कि इसके बाद प्रजापति ने उसको कई बार तस्वीरों के जरिए ब्लैकमेल करते हुए रेप किया.
कौन हैं गायत्री प्रजापति?
गायत्री प्रजापति पर भ्रष्टाचार के कई आरोप हैं. उन्हें मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपने मंत्रिमंडल से बर्खास्त भी किया था. लेकिन बाद में दोबारा शामिल कर लिया. इस वक्त वो समाजवादी पार्टी के टिकट पर अमेठी से विधानसभा चुनाव लड़ रहे हैं.
गौरतलब है कि अभी कुछ दिन पहले ही आचार संहिता उल्लंघन का मामला भी देखने को मिला जब कानपुर से अमेठी ले जाई जा रही 4000 साड़ियों की एक खेप को पुलिस ने पकड़ा. बिल पर भी गायत्री प्रजापति का नाम था. इस मामले में केस दर्ज हुआ है.