Indian Airports Rank First When It Comes To Security – भारत के एयरपोर्ट सुरक्षा मानकों में दुनिया भर में अव्वल



Indian Airports Rank First When It Comes To Security

अंतरराष्ट्रीय संस्था एयरपोर्ट काउंसिल इंटरनेशनल ने 2016 में दुनिया भर के एयरपोर्टों का अध्ययन किया और पाया कि भारतीय एयरपोर्ट सुरक्षा के मानकों में दूसरे देश के एयरपोर्ट से कहीं बेहतर हैं. अंतरराष्ट्रीय एजेंसी एसीआई ने एयरपोर्ट सर्विस क्वालिटी रेटिंग के तहत चार सुरक्षा के मानक तय किए. ये थे सुरक्षा बलों का व्यवहार, पुख्ता तरीके से सुरक्षा जांच, वेटिंग टाइम और सुरक्षा की भावना.
इन चारों पैमानों पर देश के 6 सबसे बड़े एयरपोर्ट दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई,  हैदराबाद और बैंगलोर एयरपोर्ट खरे उतरे. तकरीबन सभी एयरपोर्ट ने हर पैमाने पर करीब 4.5 अंक से ज्यादा ही हासिल किया. जबकि अमेरिका का डलास, लंदन का हीथ्रो,  दुबई, फ्रैंकफर्ट सभी इससे पीछे रहे.

अंतरराष्ट्रीय संस्था एयरपोर्ट काउंसिल इंटरनेशनल ने 2016 में दुनिया भर के एयरपोर्टों का अध्ययन किया और पाया कि भारतीय एयरपोर्ट सुरक्षा के मानकों में दूसरे देश के एयरपोर्ट से कहीं बेहतर हैं.

बावजूद इसके इन एयरपोर्ट की सुरक्षा का जिम्मा उठानेवाली सुरक्षा एजेंसी सीआईएसएफ यानि सेंट्रल इंडस्ट्रियल सिक्योरिटी फोर्स सुरक्षा की व्यवस्था को और पुख्ता बनाने की तैयारी कर रही है.
आतंकी गतिविधियों से बचाने के लिए भी बनी योजना
हवाईअड्डों पर आतंकवाद रोधी कवच को और मजबूत बनाने के लिए एक बड़ी योजना जल्द लागू की जाएगी, जिसमें स्मार्ट सीसीटीवी कैमरे लगाना, बख्तरबंद वाहनों का इस्तेमाल करना और हवाईअड्डों की परिधि में सुरक्षा बाड़ लगाना शामिल होगा.
सीआईएसएफ को देश के 59 नागरिक हवाईअड्डों पर सशस्त्र कवच उपलब्ध कराने का काम दिया गया है और उसने इन हवाईअड्डों पर सुरक्षा उपकरण और ढांचागत निर्माण की कार्य योजना तैयार करनी शुरू कर दी है.
सीआईएसएफ के डीजी ओपी सिंह ने बताया कि इस योजना के लागू होने के बाद देश के हवाईअड्डे और ज्यादा सुरक्षित होंगे. सीआईएसएफ ने योजना पर अमल के लिए एक खाका तैयार किया है और रिपोर्ट सरकार को सौप दी है, जिसमें कहा गया है कि दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरू जैसे बड़े हवाईअड्डों को घुसपैठ का पता लगाने वाली प्रणाली या हवाईअड्डे की परिधि में बाड़ लगाने से लैस होने चाहिये.  इसके अलावा जल्द ही देश के सभी छोटे बडे सभी एयरपोर्ट्स की सुरक्षा का जिम्मा सीआईएसएफ को सौपा जा सकता है और सीआईएसएफ छोटे एयरपोर्ट्स पर एयरपोर्ट सिक्योरिटी की जगह एयरक्राफ्ट सिकेयोरिटी देने पर विचार कर रही है मतलब जब एयरक्राफ्ट पहुंचेगा तब सुरक्षा दी जाए.