जानिए..बैंक लेनदेन पर 150 रुपए लगने वाली खबर की सच्चाई


सोशल मीडिया पर एक महीने में चार बैंक ट्रांजेक्शन के बाद 150 रुपए लगने वाली खबर वायरल हो रही है. नोटबंदी के दौरान हर रोज नए नियम का सामना करने वाली जनता के लिए यह किसी ताजा झटके से कम नहीं है. लेकिन सोशल मीडिया पर वायरल होने वाली हर खबर सही नहीं होती.
इस खबर की हकीकत कुछ और ही है, जो राहत देने वाली है. एक महीने में चार ट्रांजेक्शन के बाद 150 रुपए आपको एटीएम से नहीं बैंक ब्रांच से करने पर देना होगा. आप पहले की तरह से ही एटीएम से बेधड़क पैसा निकाल सकते हैं. इससे घबराने की जरूरत नहीं है.

सोशल मीडिया पर एक महीने में चार बैंक ट्रांजेक्शन के बाद 150 रुपए लगने वाली खबर वायरल हो रही है. नोटबंदी के दौरान हर रोज नए नियम का सामना करने वाली जनता के लिए यह किसी ताजा झटके से कम नहीं है.

एचडीएफसी बैंक के मीडिया प्रभारी राजीव बताते हैं कि ग्राहकों से लेनदेन के चलते बैंकों पर पड़ने वाले भार को कम करने के लिए अब लेन-देन पर चार्ज वसूला जाएगा. लेकिन इस चार्ज के लिए कुछ कायदे-कानून होंगे. मसलन आप अगर एटीएम से चार और उससे अधिक लेनदेन करते हैं तो आपको कोई चार्ज नहीं देना होगा.

इसके उलट आप बैंक जाकर काउंटर से एक महीने में चार बार से ज्यादा लेनदेन करते हैं तो आपसे चार्ज वसूला जाएगा. चार बार की लेनदेन के बाद आपको चार्ज देना होगा. अलग-अलग बैंक का चार्ज अलग होगा. प्राइवेट बैंकों में एक महीने में पांचवे लेनदेन से ये चार्ज 150 रुपये प्रति लेनदेन होगा.
सरकारी बैंक में चार्ज की सीमा अभी कुछ साफ नहीं है. खास बात ये भी है कि ये चार्ज सिर्फ बचत खाता और सेलरी अकाउंट पर ही लगेगा.
वहीं आईसीआईसीआई बैंक के हनुमंत सहगल बताते हैं कि हर एक बैंक ब्रांच में नोटिस लगा दिया गया है. जिसको जो भी जानकारी लेनी हो वो नोटिस को देख और पढ़ सकता है. अभी तक बैंक को लेनदेन पर खासा खर्च करना पड़ रहा है. ऐसे खर्चों को कम करने के लिए ये कदम उठाया गया है.